Saturday, 18/8/2018 | 12:57 UTC+5
1newsindia.com

क्या डायट में सबकुछ सही चल रहा हैं पार्ट-1 ?

चंदौली से देवानंद यादव की रिपोर्ट –

जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान सकलडीहा में घोर घपलेबाजी करने का आरोप लग रहा हैं । ये घपलेबाजी नेेशनल अचीवमेंट सर्वे 2017 के मानदेय वितरण में हुई हैं । जिलाधिकारी को रजिस्ट्री के माध्यम से पत्रक के द्वारा आरोप लगाया गया हैं ।

पत्रक के अनुसार 13 नवम्बर 2017 को एक शासन स्तर पर पूरे जनपद में टेस्ट कराने की जिम्मेदारी डायट को दी गयी थी ।और इस कार्य को डायट प्राचार्य द्वारा संपादित किया गया था ।शासन स्तर पर इस कार्य के लाखों रुपये का बजट दिया गया था । जो मानदेय के रूप में वितरित किया जाना था ।इस कार्य में फील्ड इवेस्टिगेटर बीटीसी के बच्चें और अन्य विभाग से अधिकारी जैसे निरीक्षण,भ्रमण नामित थे ।इस कार्य के लिए बच्चों को 1200 रूपयें दिया जाना था लेकिन डायट प्राचार्य द्वारा बड़े ही चालाकी से केवल 250 रुपयें ही बीटीसी के बच्चों को दिया गया ।विक्रम सिंह कन्या के बच्चों द्वारा इसका विरोध किया गया तो डायट प्राचार्य व उनके सहयोगी बाबू विवेक तिवारी (जो कि वर्तमान में निलंबित चल रहे हैं ) ने कहा कि भाग जाओ नही तो प्रेक्टिकल में फेल कर दूंगा ।

वही दूसरी तरफ इस कार्य में अन्य विभाग के अधिकारी( समस्त खंड विकास अधिकारी ब्लॉकवार ) को भी प्रेक्षक के रूप में शासन स्तर पर लगाया गया था जबकि इनका मानदेय एक हजार रुपए था जो आज तक नही दिया गया इस कार्य मे कुछ डायट के कर्मचारी भी लगे थे उनका भी मानदेय नही दिया गया ।

इस कार्य मे बीटीसी के बच्चों को 4 दिन प्रशिक्षण दिया गया उस प्रशिक्षण के लिए नाश्ता का पैसा आया था लेकिन नही कराया गया । साथ ही इसमें डीएम से अपने स्तर की जांच कराने की भी गुहार लगायी गयी थी ।

यही नही सूत्रों की माने तो बीटीसी में कुछ विद्यालयों में सामूहिक नकल हुई थी । प्रत्येक छात्रों से दो हजार की राशि वसूली गयी थी ।कुल 1800 छात्र बीटीसी कर रहे हैं ।सोचिये कितनी राशि अवैध रुप में बंदर बांट किये गये होंगे ।इसका खुलासा दोबारा कॉपी जांच से हो सकता हैं ?

About

POST YOUR COMMENTS

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ads